जाड्यं धियो हरति सिञ्चति वाचि सत्यं
मानोन्नतिं दिशति पापमपाकरोति ॥
चेतः प्रसादयति दिक्षु तनोति कीर्तिं
सत्संगतिः कथय किं न करोति पुंसाम् ॥

खरें वचन बोलवी जडपणास कीं मालवी
महोन्नतिस डोलवी दुरित मारुनी घालवी ॥
मनी सुख अमोलवी यश जगत्रयीं कालवी
अनेक गुण पालवी सुजनसंगती झूलवी ॥

Hits: 358
X

Right Click

No right click