क्षुत्क्षामोऽपि जराकृशोऽपि शिथिलप्रायोऽपि कष्टां दशा -
मापन्नोऽपि विपन्नदीधितिरपि प्राणेषु गच्छत्स्वपि ॥
मत्तेभेन्द्रविभिन्नकुम्भपिशितग्रासैकबद्धस्पृहः
किं जीर्णं तृणमत्ति मानमहतामग्रेसरः केसरी ॥

झाला क्षीण बहु क्षुधेस्तव जरी की व्यापिला वार्धकें
आली कष्टदशा घडो मरणही की तेज गेलें निकें ॥
शौर्यें भेदुनि हस्तिमस्तक शुभग्रासींच ज्याला स्पृहा
ऎसाही मृगराज जीर्ण तृण तो खाईल की काय हा ॥

Hits: 377
X

Right Click

No right click